योजना के बारे में


ग्रामीण गौरव पथ
ग्रामीण गौरव पथ

गाँवों में आवागमन को आसान करने के लिए सरकार द्वारा हर ग्राम पंचायत में ग्रामीण गौरव पथों का निर्माण करवाया जा रहा है। गाँवों में जहां आम रास्तों पर गड्ढ़ों वाले कच्चे रास्ते थे वहीं सरकार ने इन रास्तो में सीमेंट व कंकरीट की सड़कों का निर्माण करवा दिया है। ग्रामीण गौरव पथ कही जाने वाली ये सड़कें आज गाँवों का गौरव हैं।

हर पंचायत में ग्रामीण गौरव पथ

सरकार द्वारा राज्य की सभी 9894 ग्राम पंचायत मुख्यालयों पर चरणबद्ध रूप से ग्रामीण गौरव पथों का निर्माण किया जा रहा है। सरकार द्वारा प्रथम बजट में ही इन ग्रामीण गौरव पथों के निर्माण की घोषणा कर दी गई थी।

गांववासियों का आवागमन हुआ आसान

ग्रामीण गौरव पथों के निर्माण से गांववासियों का स्कूल, अस्पताल, मंदिर, चैपाल, खेत, पास के गावों, कस्बों में जाना-आना आसान हो गया है।

'राजस्थान राज्य राजमार्ग अधिनियम' लागू

सरकार ने राज्य राजमार्गों का विकास करने के लिए मई 2015 में 'राजस्थान राज्य राजमार्ग अधिनियम' लागू किया। राज्य में पीपीपी से 14 राज्य राजमार्गों यानि स्टेट हाइवेज़ के विकास का काम चालू हो चुका है। 805 किलोमीटर के इन राजमार्गों का निर्माण लगभग 1 हज़ार 7 सौ पचास करोड़ रुपयों की लागत से होगा।

इसके अतिरिक्त पिछले 3 वर्षों में 5 हज़ार किलोमीटर से ज़्यादा लम्बाई के राजमार्गों का विकास विभिन्न योजनाओं में किया गया।

गांव और ढाणियां जुड़ी सड़कों से

वहीं राज्य के दूर-दराज तक के गांवों और ढाणियों को सड़कों से जोड़ने के लिये सरकार ने 3 वर्षों में विभिन्न योजनाओं में साढ़े 15 हज़ार किलोमीटर से ज़्यादा लम्बाई की सड़कों का निर्माण किया है। इन सब प्रयासों से 4 हज़ार 3 सौ से ज़्यादा गांव और ढाणियों को सड़कों से जोड़ा जा चुका है। इनके अलावा 6 हज़ार से अधिक नई सड़कों का निर्माण कार्य चल रहा है।


बोल बदलाव के


इंद्रपाल सिंह

नयासर, झुंझुनूं

बरसात में छोटे रास्ते पर चलना भी दुष्कर था। ग्रामीण गौरव पथ बन जाने के बाद शहर की दूरियां तो कम हुई ही, शहर से मिलने वाली अस्पताल, स्कूल, बाजार जैसी सुविधाओं तक कम समय में पहुंच होने से जनजीवन पहले से आसान हो गया।


सीता देवी

मोकाला ग्राम पंचायत, नागौर

बरसात के दिनों में घुटनों तक कीचड़ रहा करता था, आने-जाने में खासी दिक्कत होती थी वहीं अब ग्रामीण गौरव पथ निर्माण से हर तरह का आराम हो गया है।


रामलाल यादव

गगवाना, अजमेर

पहले गाँव में बहुत कीचड़ रहता था। स्कूल जाने में बच्चों को परेशानी रहती थी। ग्रामीण गौरव पथ बनने से बहुत अच्छा हो गया है। बच्चों को स्कूल जाने में अब परेशानी नहीं होती।


हसन मोहम्मद

अजमेर


विडियो


ग्रामीण गौरव पथ

टोल फ्री नंबर 1800 180 6127