योजना के बारे में


कौशल एवं आजीविका विकास
कौशल एवं आजीविका विकास
कौशल एवं आजीविका विकास

विभिन्न क्षेत्रों में रोज़गार के असीमित अवसर होने के बावजूद अक्सर योग्य एवं सक्षम युवाओं के सामने रोज़गार की समस्या रहती है। इसका सबसे बड़ा कारण है वर्तमान में चल रहे रोज़गार के विभिन्न क्षेत्रों की जानकारी व उन क्षेत्रों में रोज़गार प्राप्त करने के लिए आवश्यक कौशल का अभाव। इसी अभाव को दूर कर राज्य के पढ़े-लिखे युवाओं को रोज़गार के पथ पर अग्रसर करने के उद्देश्य से कौशल एवं आजीविका विकास की शुरुआत की गई।

प्रशिक्षण के साथ, मिल रहे रोज़गार के अवसर

कौशल एवं आजीविका विकास के अन्तर्गत युवाओं को विभिन्न कोर्सेज़ में दाखिला दिया जाता है। वहां उनको अनुभवी शिक्षकों द्वारा संबंधित क्षेत्रों का रोज़गारपरक प्रशिक्षण दिया जाता है। ताकि वे कार्यकुशल बन खुद को रोज़गार के लिए तैयार कर सकें। प्रशिक्षण के दौरान ही उन्हें निजी क्षेत्र के संस्थानों के जॉब इंटरव्यू में शामिल होने का मौका दिया जाता है और उनकी योग्यता के अनुरूप कंपनियों द्वारा उन्हें रोज़गार के अवसर दिये जाते हैं।

पिछले 4 सालों में 13 लाख से भी ज़्यादा युवाओं को रोज़गार एवं स्वरोज़गार के अवसर उपलब्ध करवाए हैं। इनमें 1 लाख 80 हज़ार सरकारी नौकरियाँ भी सम्मिलित हैं।

रोज़गार से मज़बूत हुए हमारे युवाओं के हाथ

  • चिकित्सा में 22 हजार नियुक्तियां (चिकित्सा अधिकारी -5 हजार 334, नर्सिंग ग्रेड-द्वितीय-11 हजार 184, महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता-5 हजार 397)
  • शिक्षा में 68 हजार नियुक्तियां (प्रधानाध्यापक-707, व्याख्याता-17 हजार 70, वरिष्ठ अध्यापक-10 हजार 683, अध्यापक – 32 हजार 718, शारीरिक शिक्षक-5 हजार 40, कनिष्ठ लिपिक-1 हजार 241 एवं सहायक कर्मचारी- 502)
  • ग्राम सेवक- 3 हजार 406, पटवारी- 5 हजार 471
  • कृषि पर्यवेक्षक – 2 हजार 223, कनिष्ठ लेखाधिकारी- 3 हजार 181
  • पशुधन सहायक- 1 हजार 853, पशु चिकित्सा अधिकारी- 445 तथा
  • कनिष्ठ अभियन्ता- ऊर्जा में 1 हजार 221, जल संसाधन में 996, पेयजल में 775 एवं कृषि में 340 कांस्टेबल- 12 हजार 82, वन रक्षक- 2 हजार 520
  • राजस्व में शिक्षा में 1 लाख 09 हजार से अधिक कार्मिकों को पदौन्नती (उप निदेशक-50, जिला शिक्षा अधिकारी-209, प्रधानाचार्य-13 हजार 827, प्रधानाध्यापक-4 हजार 455, व्याख्याता-37 हजार 948, वरिष्ठ अध्यापक-45 हजार 883, वरिष्ठ अध्यापक- विशेष शिक्षा-149, वरिष्ठ शारीरिक शिक्षक-2 हजार 506, मंत्रालयिक कर्मचारी-4 हजार 595)

नई भर्ती

  • 54 हजार तृतीय श्रेणी अध्यापक, 9 हजार द्वितीय श्रेणी अध्यापक, 5 हजार व्याख्याता, 4 हजार 500 शारीरिक प्रशिक्षण अनुदेशक ग्रेड-3 के पदों पर भर्ती
  • 1 हजार 500 संस्कृत शिक्षा अध्यापक, 1 हजार 200 प्रधानाध्यापक माध्यमिक विद्यालय, 1 हजार 200 प्रयोगशाला सहायक ग्रेड-3 एवं 700 पुस्तकालय अध्यक्ष के पदों पर भर्ती
  • 4 हजार 514 नर्स ग्रेड-II तथा 5 हजार 558 महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता की भर्ती
  • पटवारियों के 2 हजार, जेल प्रहरियों के 686, कांस्टेबल के 15291, फोरेस्टर के 500 एवं फारेस्ट गार्ड के 2 हजार पदों पर भर्ती
  • प्रशासनिक सुधार विभाग में 11 हजार 930 पदों पर
  • 21 हजार 140 सफाई कर्मचारियों की भर्ती

बोल बदलाव के


राजाराम मीणा

जयपुर

राजस्थान सरकार की कौशल एवं आजीविका विकास योजना के तहत् मैंने इंडस्ट्रियल सुरक्षा गार्ड का प्रशिक्षण प्राप्त किया जिससे आज मैं सम्मानपूर्वक जीवनयापन कर रहा हूं।


नूतन सिंह

बांसवाडा

कौशल एवं आजीविका विकास योजना में निःशुल्क रिटेल मैनेजमेंट कोर्स का प्रशिक्षण प्राप्त करने पर इतना वेतन मुझे प्राप्त होगा ऐसा मैंने या मेरे परिवार में किसी ने नहीं सोचा था। यह राज्य सरकार द्वारा किए गए प्रयासों से ही संभव हो सका।


टोल फ्री नंबर 1800 180 6127