• बाड़मेर रिफाइनरी


बाड़मेर रिफाइनरी

प्रमुख बिन्दु-

  • 18 अप्रेल, 2017 को बाड़मेर (पचपदरा) में रिफाइनरी के लिये राजस्थान सरकार और एच.पी.सी.एल. के बीच एमओयू
  • देश का पहला रिफाइनरी व पेट्रोकैमिकल कॉम्प्लेक्स
  • सबसे आधुनिक तकनीक पर आधारित, बीएस-6 मानक वाले पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स जैसे-डीज़ल फ्यूल, गैसोलिन, प्रोपेन, ब्यूटेन आदि का उत्पादन
  • 26 प्रतिशत राज्य सरकार की हिस्सेदारी
  • 2013 के समझौते के अनुसार राज्य सरकार को प्रतिवर्ष रु. 3736 करोड़ के हिसाब से आगामी 15 वर्षों तक रु.56040 करोड़ ब्याज मुक्त ऋण देना था, अब नए समझौते के अनुसार राज्य सरकार को प्रतिवर्ष रु. 1123 करोड़ के हिसाब से आगामी 15 वर्षों तक सिर्फ रु. 16845 करोड़ ही देने होंगे, जिससे राज्य को करीब 40,000 करोड़ की बचत होगी
  • नये समझौते के अनुसार 30 वर्षों में राज्य को रु. 34000 करोड़ की अतिक्ति आय
  • रु. 43,129 करोड़ के रुप में प्रदेश के इतिहास का अब तक का सबसे बड़ा निवेश
  • एच.पी.सी.एल. का भी अब तक का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट
  • तेल उत्पादन बढ़ाने के लिये केयर्न एनर्जी आगामी चार सालों में रु. 27 हज़ार करोड़ का निवेश करेगी
  • रिफाइनरी की क्षमता 9 मिलियन मेट्रिक टन
  • राजस्थान के अलावा बाहर से आयातित क्रूड ऑयल की भी रिफाइनिंग होगी
  • रिफाइनरी से पेट्रोल, डीज़ल के साथ-साथ प्लास्टिक, पेन्ट्स, सिंथेटिक फाइबर, रबर आदि भी बनेंगे
  • इसी वित्तीय वर्ष में शुरू होगा रिफाइनरी का काम
  • सहायक उद्योगों के विकास से बाड़मेर और आस-पास के क्षेत्रों का होगा कायापलट, हज़ारों नये रोज़गार होंगे सृजित
  • रिफाइनरी से पेट्रोलियम पदार्थों के परिवहन के लिये रिफाइनरी को रेल लाइनों द्वारा बंदरगाह से जोड़ने की केन्द्र सरकार से अपील
  • आईटीआई संस्थानों में पेट्रोलियम के कौशल विकास पाठ्यक्रम शुरू करवाने के लिये प्रदेश सरकार की केन्द्र सरकार से अपील
  • इसी मौके पर कोटा शहर में पाइपलाइन के ज़रिए घरेलू गैस वितरण के लिए राजस्थान राज्य गैस लि. और गेल गैस लि. के बीच बिज़नेस ट्रांसफर समझौते पर भी हस्ताक्षर

27 अप्रैल 2017