• भामाशाह डिजिटल परिवार योजना


पिछले साढ़े चार साल में राजस्थान सरकार ने आमजन तक सरकारी सेवाएं और सरकारी लाभ पहुंचाने की व्यवस्था को मज़बूत करने के लिए बड़ा काम किया है। आज राज्य में सरकारी काम करवाने का तरीका बदल गया है और हर काम डिजिटल तरीके से ऑनलाइन हो रहा है। इससे लोगों को देरी और परेशानी से निजात मिली है।

सरकार इस व्यवस्था को और मजबूत करते हुये राष्ट्रीय खादय सुरक्षा अधिनियम (NFSA) यानि राशन के हक़दार परिवारों को स्मार्टफोन व इंटरनेट कनेक्शन के लिए आर्थिक सहायता दे रही है। इससे राज्य के ऐसे लोग जो अब तक डिजिटल सेवाओं का लाभ नहीं ले पा रहे थे वे भी डिजिटल से जुड़ेंगे। ये लोग भी घर बैठे आसानी से सरकारी काम करवा पाएंगे।


क्या है भामाशाह डिजिटल परिवार योजना?

राष्ट्रीय खादय सुरक्षा अधिनियम (NFSA) यानि राशन के हक़दार परिवारों को स्मार्टफोन व इंटरनेट कनेक्शन के लिए दो चरणों में 500+500 रुपयों की आर्थिक सहायता दी जा रही है।


योजना का लाभ कैसे लें?

500 रुपये की पहली किश्त राज्य सरकार द्वारा अपने आप पात्र परिवारों की भामाशाह महिला मुखिया के खाते में जमा करवा दी जाएगी। इसके लिए किसी आवेदन की ज़रूरत नहीं है।

सहायता राशि बैंक खाते में पाने के लिए आपका सही खाता भामाशाह से जुड़ा होना ज़रूरी है। अगर आप कोई नया खाता जुड़वाना चाहें या जुड़े हुए खाते में परिवर्तन करवाना चाहें तो ई-मित्र पर जाकर करवा सकते हैं।

ज़िला प्रशासन द्वारा जगह-जगह पर ‘भामाशाह डिजिटल परिवार योजना’ के तहत कैंप आयोजित किये जायेंगे। आप इन शिविरों में या फिर किसी भी दुकान से अपनी पसंद की कंपनी का स्मार्टफोन ले सकते हैं। इसी तरह आप इंटरनेट सेवाएं भी अपनी इच्छा के अनुसार किसी भी ऑपरेटर से ले सकते हैं।


दूसरी किश्त कैसे लें?

अपने वर्तमान में चालू या नए स्मार्टफोन पर राज्य सरकार के इन में से कोई भी मोबाइल ऐप - ई-मित्र, भामाशाह वॉलेट, राजस्थान सम्पर्क, राज मेल - डाउनलोड करें। इन सभी में स्मार्टफोन रजिस्टर करने की सुविधा है। अपना स्मार्टफोन रजिस्टर करने पर 500 रुपये की दूसरी किश्त खाते में जमा करवा दी जाएगी।

यह आवश्यक है कि मोबाइल नम्बर आपके परिवार के किसी सदस्य के नाम से ही हो।

अब हर परिवार के पास होगी डिजिटल की ताकत, हर परिवार होगा और मज़बूत

5 सितम्बर 2018